यूरोप में स्थित एक म्यूजियम की विशेषता यह है कि ये समुद्र के नीचे बना है। इस म्यूजियम में लगभग 400 कलाकृतियों को सजाया गया है। म्यूजियम में घूमने आने वालों को बाकायदा ऑक्सीजन मास्क पहनना पड़ता है।
म्यूजियो अटलांटिको नामक इस म्यूजियम में मूर्तियां पानी के नीचे ऐसे खड़ी हैं मानो वो पानी के अंदर नहीं बल्कि जमीन पर ही रखी हुई हैं। इस म्यूजियम को बनाने का श्रेय ब्रिटिश कलाकार जेसन डिकेर्स टेलर को जाता है। यह दुनिया का पहला अंडरवाटर म्यूजियम है जो प्रशांत महासागर के अंदर स्थित है। इसमें प्रदर्शित कलाकृतियां सजीव प्रतीत होती हैं। यूरोपीय देशों में शरणार्थियों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए भी एक कलाकृति भी बनाई गई है। यह मूर्ति शरणार्थी संकट को दर्शाती है। म्यूजियम की मूर्तियों में रोजमर्रा की दिनचर्या को शामिल किया गया है। टेलर ने इससे पहले भी कई जगहों पर इसी तरह के प्रयोग किए हैं। इसमें मैक्सिको के बहामास और इंग्लैंड की थेम्स नदी में किए प्रयोग शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here